Hardcover ✓ Divya eBook µ


Divya Prnom Divya signification, origine, fete Origine, signification, caractre des Divya, popularit Dcouvrez toutes les infos sur le prenom Divya Signification du prnom Divya personnalit de Divya Signification et interprtation du prenom Divya dcouvrez tous les secrets de la personnalit de Divya, parmi lesprnoms enregistrs dans notre dictionnaire des prnoms du monde entier, le prnom Divya a un caractre bien particulier et unique en son genre Prnom Divya origine signification tymologie Gujarati News, News in Gujarati Gujarati News Samachar Find all Gujarati News and Samachar, News in Gujarati, Gujarat News, Gujarati News Headlines and Daily Breaking News, Gujarati News Paper in DivyaBhaskar Signification du prnom Divya, origine Divya , etymologieEnfants, Divya et Yoanna sont des fillettes sages comme des images, sauvages, craintives et disciplines Elles sont fortement dtermines par leur milieu familial qui laisse une empreinte importante sur leur destin Elles ont besoin d amour, mais sans trop de manifestations extrieures Divya Bharti Wikipdia Divya Om Prakash Bharti, ne lefvrierMumbai Maharashtra, en Inde et morte leavrilVersova Bombay, Inde , est une actrice indienne SommaireBiographie Divya Deshmukh Wikipdia Divya Jitendra Deshmukh est une joueuse d checs indienne ne ledcembreAu er avril , treize ans, elle est la troisime joueuse indienne et la Socit DIVYA CHALLANS Chiffre d affaires, bilansInformations gnrales sur DIVYA DIVYA, SARL unipersonnelle au capital de , a dbut son activit en juinFrancette Agnes Astrid RENAUD est grant de la socit DIVYA Le sige social de cette entreprise est actuellement siturue GambettaChallans Divia Accueil Divia assure les dplacements en bus dans l agglomration dijonnaise grce son rseau de bus et tram Accueil divya Association Aidons les enfants duPrsentation Aidons les enfants du Tamil Nadu est une association humanitaire sans but lucratif Elle a t cre leMaiSes statuts ont t dposs Grenoble, la Prfecture de l Isre, et sa cration a fait l objet d une publication au Journal Officiel de la Rpublique Franaise duJuin I jumped from medieval Norway straight into ancient India in 'Divya.' Continuing my foray into the wide genre of translated Indian literature, Yashpal's 'Divya' had me turning the pages Along the way, I shed some of my cultural and historical ignorance when I learned that India had been ruled by the Greeks, whose cultural influence extended far and beyond Jumbo Dweep as India was known then.In 'Divya' Yashpal has created a truly unique woman a woman who believes that she is free only when she is a prostitute Challenging all norms of society, Yashpal has cast a light on society's hypocrisies caste, slavery, myth, theism, belief, faith there is nothing that doesn't escape his scathing pen To that extent, I loved 'Divya.' Truly, one of the reasons we ought to read is to knowabout the world within and outside us As long as a book that does that, we are paying our due homage to the writer. GOOD Novel hits the Social order of the 1 c bc where hindu and Buddhist ideologies are raging wars to gain supremacy It shows a heart wrenching experience of a woman who is the titular character Divya After reading it you can relate it with our present social order and position of women in society.nothing has changed much.

  • Hardcover
  • 284 pages
  • Divya
  • यशपाल
  • 09 October 2017
  • 9788126017973

About the Author: यशपाल

यशपाल (३ दिसंबर १९०३ २६ दिसंबर १९७६) का नाम आधुनिक हिन्दी साहित्य के कथाकारों में प्रमुख है। ये एक साथ ही क्रांतिकारी एवं लेखक दोनों रूपों में जाने जाते है। प्रेमचंद के बाद हिन्दी के सुप्रसिद्ध प्रगतिशील कथाकारों में इनका नाम लिया जाता है। अपने विद्यार्थी जीवन से ही यशपाल क्रांतिकारी आन्दोलन से जुड़े, इसके परिणामस्वरुप लम्बी फरारी और जेल में व्यतीत करना पड़ा । इसके बाद इन्होने साहित्य को अपना जीवन बनाया, जो काम कभी इन्होने बंदूक के माध्यम से किया था, अब वही काम इन्होने बुलेटिन के माध्यम से जनजागरण का काम शुरु किया। यशपाल को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७० में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था।यशपाल का जन्म 3 दिसंबर, 1903 को पंजाब में, फ़ीरोज़पुर छावनी में एक साधारण खत्री परिवार में हुआ था। उनकी माँ श्रीमती प्रेमदेवी वहाँ अनाथालय के एक स्कूल में अध्यापिका थीं। यशपाल के पिता हीरालाल एक साधारण कारोबारी व्यक्ति थे। उनका पैतृक गाँव रंघाड़ था, जहाँ कभी उनके पूर्वज हमीरपुर से आकर बस गए थे। पिता की एक छोटी सी दुकान थी और उनके व्यवसाय के कारण ही लोग उन्हें ‘लाला’ कहते पुकारते थे। बीच बीच में वे घोड़े पर सामान लादकर फेरी के लिए आस पास के गाँवों में भी जाते थे। अपने व्यवसाय से जो थोड़ा बहुत पैसा उन्होंने इकट्ठा किया था उसे वे, बिना किसी पुख़्ता लिखा पढ़ी के, हथ उधारू तौर पर सूद पर उठाया करते थे। अपने परिवार के प्रति उनका ध्यान नहीं था। इसीलिए यशपाल की माँ अपने दो बेटों—यशपाल और धर्मपाल—को लेकर फ़िरोज़पुर छावनी में आर्य समाज के एक स्कूल में पढ़ाते हुए अपने बच्चों की शिक्षा दीक्षा के बारे में कुछ अधिक ही सजग थीं। यशपाल के विकास में ग़रीबी के प्रति तीखी घृणा आर्य समाज और स्वाधीनता आंदोलन के प्रति उपजे आकर्षण के मूल में उनकी माँ और इस परिवेश की एक निर्णायक भूमिका रही है। यशपाल के रचनात्मक विकास में उनके बचपन में भोगी गई ग़रीबी की एक विशिष्ट भूमिका थी।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *